सिख समुदाय मनमोहन सिंह को सिख समुदाय से बहिष्कार करें - बम बम महाराज नौहट्टिया

सिख समुदाय मनमोहन सिंह को सिख समुदाय से बहिष्कार करें -  बम बम महाराज नौहट्टिया

अटल जन शक्ति पार्टी ने प़ेस विज्ञप्ति जारी कर सनातन धर्म और संस्कृति और सभ्यता के रक्षक सिख पंथ की जय का उद्घोष किया है और सभी दस सिख गुरुओं की हृदय की गहराई से अरदास किया है।

बम बम महाराज नौहट्टिया का कहना है कि सिख पंथ के द्वारा सिख गुरुओं ने भारत में बिधर्मियों के क़ूर कारनामों से कठोरतम शहादत सहित पुरुषार्थ के बल पर सनातन धर्म और संस्कृति और सभ्यता की रक्षा ही नहीं की बल्कि भारत को मिटने और मिटाने से बचा लिया।आज संपूर्ण भारत पर सिख पंथ और सिख गुरुओं का जो ऋण है उसका आभार सृष्टि पर्यन्त तक रहेगा।सिख पंथ की स्थापना और इतिहास के उपर लिखना हमारे जैसे तुच्छ के लिए संभव नहीं है।जो संभव है वह है सिख पंथ और सिख गुरुओं के आगे सदा सर्वदा चरणों में समर्पित भाव से नतमस्तक होकर उनका आशीर्वाद प्राप्त करना।सिख पंथों के दस गुरुओं में हमेशा वंदनीय गुरु गोविंद सिंह जी की शिक्षा का और सुझाए गए मार्ग का स्थान बहुत ही सर्वोच्च व महत्वपूर्ण है। जिसकी कदाचित उपेक्षा नहीं किया जाना चाहिए किन्तु आज की परिस्थितियों में सिख पंथ और सिख पुरुषों के द्वारा जिस प्रकार से गुरु गोविंद सिंह जी की ही शिक्षा की उपेक्षा और अवमानना किया जा रहा है यह अति गंभीर और अति महत्वपूर्ण प़श्न खड़ी कर रहा है।

जो सिख पंथ सनातन धर्म और भारत का चादर था उसी सिख पंथ के ही डाक्टर मनमोहन सिंह ने अपने प़धान मंत्री के कार्यकाल में सोनिया गांधी राहुल गांधी प्रियंका गांधी बाड़ा सहित बामपंथियों के दबाव में आकर जिस प्रकार मीडिया और ब्यूरोक्रेसी को मैनेज कर 2013 का वक्फ बोर्ड कानून पास कर बनाया है और जिस लहजे से डाक्टर मनमोहन सिंह ने सरेआम भारत की संपदाओं पर पहला हक मुसलमानों का बोला था उसके आलोक में और जिस तरह कामिनल बिल भी डाक्टर मनमोहन सिंह अपनी सरकार में सोनिया गांधी राहुल गांधी प्रियंका गांधी वाड्रा व अन्य के दबाव में पास करना चाहे थे किन्तु वह पास नहीं हो सका उस लिहाज से डाक्टर मनमोहन सिंह की हरकतें भारत को  बिधर्मियों का सरिया कानून वाला देश बनाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़े थे।ईस प़कार सिख पंथ की स्थापना का मुख्य उद्देश्य के विपरित डाक्टर मनमोहन सिंह ने कार्य किया।

अतः उपलब्ध सरकारी सबूतों के आधार पर और सिख पंथ की स्थापना के उद्देश्यों के आधार पर डाक्टर मनमोहन सिंह डाक्टर मनमोहन सिंह नहीं हो सकता चूंकि डाक्टर मनमोहन सिंह ने मोहम्मद मनमोहन शेख का काम किया है और भारत से सनातन धर्म और संस्कृति और सभ्यता/समस्त हिन्दूओं को मिटाने का काम वक्फ बोर्ड कानून कोमनल विल सहित अनेकों ऐसा 2004से लेकर 2014तक के कार्यकाल का कार्य किया है जिसके आधार पर अटल जन शक्ति पार्टी तो डाक्टर मनमोहन सिंह को मोहम्मद मनमोहन शेख साबित करता है और आगे देश की जनता और देश विदेश में बैठे सनातन धर्मी हिन्दूओं को भी इस पर अपना फैसला देना है।सच जो अटल जन शक्ति पार्टी और बम बम महाराज नौहट्टिया राष्ट्रीय प़भारी और राष्ट्रपति उम्मीदवार देखा है वह डाक्टर मनमोहन सिंह मनमोहन सिंह नहीं बरण मोहम्मद मनमोहन शेख है। आगे फैसला आपका 

लेखक - बम बम महाराज नौहट्टिया राष्ट्रीय प़भारी अटल जन शक्ति पार्टी और भावी उम्मीदवार राष्ट्रपति पद

(उपरोक्त विचार लेखक का है इससे प्रकाशक का कोई सम्बंध नहीं है) DDS