IPL : फ़ाइनल में पहुंची धोनी की चेन्नई

IPL : फ़ाइनल में पहुंची धोनी की चेन्नई

आईपीएल 2021 के पहले क्वालीफायर में चेन्नई सुपर किंग्स ने दिल्ली कैपिटल्स को चार विकेट से हरा दिया। इस जीत के साथ सीएसके नौवीं बार आईपीएल फाइनल में पहुंच गई है। टीम 2010, 2011 और 2018 में खिताब भी जीत चुकी है।


टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए दिल्ली ने चेन्नई के सामने 173 रन का लक्ष्य रखा। डीसी की ओर से कप्तान ऋषभ पंत ने 35 गेंदों पर 51 रन की नाबाद पारी खेली। इसके अलावा पृथ्वी शॉ ने 60 रन बनाए। जवाब में सीएसके ने 19.4 ओवर में छह विकेट पर 173 रन बनाकर मैच जीत लिया। चेन्नई की ओर से ऋतुराज गायकवाड़ ने 70 रन और रॉबिन उथप्पा ने 63 रन बनाए। 

आखिरी दो ओवर में चेन्नई को जीत के लिए 24 रन चाहिए थे। अवेश खान ने 19वें ओवर में गेंदबाज की। इस ओवर की पहली गेंद पर शानदार बल्लेबाजी कर रहे गायकवाड़ आउट हो गए। इसके बाद धोनी ने आश्चर्यचकित करते हुए खुद को रवींद्र जडेजा और ड्वेन ब्रावो से ऊपर बल्लेबाजी करने पहुंचे। 

ओवर की दूसरी गेंद पर मोईन अली ने चौका जड़ा, जबकि पांचवीं गेंद पर धोनी ने छक्का लगाया। 19वें ओवर में 11 रन बने। आखिरी ओवर में 13 रन चाहिए थे। दिल्ली के कप्तान पंत ने कगिसो रबाडा की जगह टॉम करन को गेंद थमाई। पहली ही गेंद पर मोईन कैच आउट हो गए। तब तक धोनी ने क्रीज बदल लिया था। 

इस ओवर की दूसरी और तीसरी गेंद पर धोनी ने चौका लगाया। इसके बाद करन ने वाइड फेंका। चौथी गेंद पर एक और चौका लगाकर धोनी ने चेन्नई की फाइनल में जगह पक्की कर दी।

पहले बल्लेबाजी करते हुए दिल्ली टीम की शुरुआत अच्छी नहीं रही। 36 रन के कुल स्कोर पर टीम को शिखर धवन के रूप में पहला झटका लगा। वह सात रन बनाकर हेजलवुड की गेंद पर आउट हुए। इसके बाद श्रेयस अय्यर भी कुछ खास नहीं कर सके और एक रन बनाकर हेजलवुड की गेंद पर पवेलियन लौट गए। कप्तान पंत ने बैटिंग ऑर्डर बदलते हुए अक्षर पटेल को चौथे नंबर पर भेजा।


यह फैसला भी गलत साबित हुआ और अक्षर 10 रन बनाकर मोईन अली की गेंद पर आउट हो गए। इसी बीच पृथ्वी शॉ ने तूफानी पारी खेलते हुए आईपीएल करियर का नौवां अर्धशतक जमाया। वे 34 गेंदों पर 60 रन बनाकर रवींद्र जडेजा की गेंद पर पवेलियन लौटे। 80 रन पर दिल्ली के चार विकेट गिर चुके थे। इसके बाद पंत और हेटमायर ने मिलकर दिल्ली की पारी को संभाला।

दोनों के बीच पांचवें विकेट के लिए 83 रन की साझेदारी हुई। हेटमायर 24 गेंदों में 37 रन बनाकर ड्वेन ब्रावो की गेंद पर जडेजा को कैच थमा बैठे। पारी में हेटमायर ने एक छक्का और तीन चौके लगाए। इसके बाद पंत ने आईपीएल करियर की 15वीं फिफ्टी लगाई। वे 35 गेंदों पर दो छक्के और तीन चौके की मदद से 51 रन बनाकर नाबाद रहे।


173 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी चेन्नई टीम की शुरुआत भी अच्छी नहीं रही। तीन रन के कुल स्कोर पर सीएसके को पहला झटका लगा। फाफ डुप्लेसिस एक रन बनाकर एनरिक नॉर्ट्जे की गेंद पर क्लीन बोल्ड हुए। इसके बाद रॉबिन उथप्पा और ऋतुराज गायकवाड़ ने दूसरे विकेट के लिए 110 रन की साझेदारी की। उथप्पा ने इसी बीच आईपीएल करियर की 25वीं फिफ्टी लगाई। 2019 के बाद यह उनकी पहली फिफ्टी रही।

उथप्पा के रूप में चेन्नई का दूसरा विकेट गिरा। वह 44 गेंदों पर सात चौके और दो छक्के की मदद से 63 रन बनाकर टॉम करन की गेंद पर पवेलियन लौटे। इस दौरान गायकवाड़ ने भी सातवां अर्धशतक लगाया। धोनी ने बैटिंग ऑर्डर बदलते हुए शार्दुल ठाकुर को चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करने भेजा। हालांकि, उनका यह फैसला गलत साबित हुआ और शार्दुल शून्य पर पवेलियन लौटे। उन्हें भी टॉम ने आउट किया।

इसके बाद अंबाती रायुडू एक रन बनाकर रन आउट हो गए। 113 रन पर दो विकेट गंवाने वाली चेन्नई टीम ने 119 रन तक चार विकेट गंवा दिए थे और मैच फंस गया। इसके बाद मोईन अली और गायकवाड़ ने कुछ अच्छे शॉट्स लगाए। गायकवाड़ 19वें ओवर में 50 गेंदों पर 70 रन बनाकर आउट हुए। उन्हें अवेश खान ने अक्षर के हाथों कैच कराया। 

इसके बाद आखिरी ओवर में मोईन अली भी आउट हो गए। हालांकि, धोनी ने हार नहीं मानी और लगातार तीन चौके लगाकर अपनी टीम को फाइनल में पहुंचाया। धोनी की टीम अब 15 अक्तूबर को रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, कोलकाता नाइट राइडर्स और दिल्ली कैपिटल्स में से किसी एक टीम से भिड़ेगी।  TNI