देवेंद्र कौशिक प्रकरण मे दिल्ली पुलिस के खिलाफ धरना देगी अटल जनशक्ति पार्टी

देवेंद्र कौशिक प्रकरण मे दिल्ली पुलिस के खिलाफ धरना देगी अटल जनशक्ति पार्टी

अटल जनशक्ति पार्टी के राष्ट्रीय प्रभारी बमबम महाराज नौहटिया ने  दिल्ली पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि क्या दिल्ली पुलिस देश के कानून और संविधान चलेगी या किसी व्यापारी के कहने पर मनमर्जी से चलेगी?

प्रहलाद पुर (शाहबाद) में आयोजित एक पत्रकार वार्ता में बमबम महाराज नौहटिया ने आगे कहा कि प्रहलादपुर बांगर के निवासी देवेंद्र कौशिक को पिछले दिनों विकासपुरी थाने से एक सब इंस्पेक्टर ने फोन किया और किसी मामले में उनसे पूछताछ करने की बात कही जबकि देवेंद्र कौशिक के नाम से कोई भी एफआईआर या कोई भी मुकदमा पंजीकृत नहीं है, इसके बाद भी विकासपुरी थाने से उप निरीक्षक संदीप बिश्नोई ने फोन करके देवेंद्र कौशिक को दिनांक 20 अक्टूबर 2021 को विकासपुरी थाने बुलाया और इंद्र अग्रवाल के कहने पर देवेंद्र कौशिक को पूरे दिन तक संदीप बिश्नोई ने विकासपुरी थाने में बिठाए रखा देर रात 11:30 बजे उन्हें थाने से छोड़ा।

इस क्रम में बमबम महाराज नौहटिया ने आगे कहा कि इंदर अग्रवाल नामक एक व्यापारी जो बाबा /  बाबाजी नाम से सरसों का तेल का उत्पादन करते हैं, उक्त ब्रांड में देवेंद्र कौशिक ने मिलावट की शिकायत की और उस सरसो को तेल का सैंपल कई प्रयोगशालाओं में टेस्ट कराया जिसमें में मिलावट की पुष्टि हुई, इसके पश्चात देवेंद्र कौशिक ने इस सरसों के तेल खिलाफ उचित स्थानों में शिकायत की। बमबम महाराज नौहटिया ने आगे कहा कि इस शिकायत से नाराज इंद्र अग्रवाल ने विकासपुरी थाने में देवेंद्र कौशिक खिलाफ जबरन वसूली की शिकायत की जिसके पश्चात विकासपुरी थाने की पुलिस ने उन्हें अवैध तरीके से पूरे दिन थाने में बिठाए रखा।

अटल जनशक्ति पार्टी के राष्ट्रीय प्रभारी बमबम महाराज ने आगे कहा कि हम देश के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, गृह मंत्री और दिल्ली पुलिस कमिश्नर से इस मामले की शिकायत करेंगे कार्यवाही की मांग करेंगे कार्यवाही ना होने पर दिल्ली के जंतर मंतर पर धरना देंगे।

वही इस प्रकरण में शिकायतकर्ता देवेंद्र कौशिक ने कहा कि उक्त सरसों के तेल ब्रांड की शिकायत करने के पश्चात मुझे उस कंपनी के मालिक इंद्र अग्रवाल के कहने पर विकासपुरी थाने के उपनिरीक्षक संदीप बिश्नोई ने मुझे गैरकानूनी तरीके से पूरे दिन थाने पर बिठाए रखा इसके बाद इंद्र अग्रवाल ने अपने कुछ गुंडों के माध्यम धमकी दी साथ ही साथ कहा कि अपनी शिकायत वापस ले लो नहीं तो जान से मार दिए जाओगे। इस पूरे घटनाक्रम के बाद मेरी पत्नी की तबीयत बिगड़ गई वह शारीरिक और मानसिक रूप से प्रताड़ित हुई जिसके पश्चात उन्हें अस्पताल में भर्ती करना पड़ा।

देवेंद्र कौशिक ने आगे कहा कि जिस तरह से विकासपुरी थाने के पुलिस इंद्र अग्रवाल के कहने पर मुझे गैर कानूनी तरीके से थाने में बैठाए रखा और मेरा मानसिक उत्पीड़न किया जिसके विरुद्ध में न्यायालय की शरण लूंगा।  DDS

वही इस संबंध में जब इंदर अग्रवाल से उनका पक्ष जानने के लिए उनके मोबाइल पर बात की गई इंदर अग्रवाल ने कहा कि मेरा और देवेंद्र कौशिक का बाबा ब्रांड को लेकर एक मुकदमा न्यायालय में लंबित है देवेंद्र कौशिक मेरे से ईर्ष्या रखते हैं, इसी को लेकर यह पूरा विवाद है।

जब विकासपुरी थाने के उप निरिक्षक संदीप बिश्नोई से बात की गई तो संदीप बिश्नोई ने कहा कि देवेंद्र कौशिक के विरुद्ध इंद्र अग्रवाल ने एक शिकायत पत्र दिया गया था जिसके उपरांत देवेंद्र कौशिक को फोन करके थाने बुलाया गया था और इस संबंध में उनसे पूछताछ की गई।

अब यहां सवाल यह उठता है कि सिर्फ किसी की शिकायत पर बिना मुकदमा दर्ज किये पुलिस किसी को पूरे दिन अवैध तरीके से थाने मे बिना भोजन पानी के बैठाए रख सकती है।


इस पूरे प्रकरण के बाद अब अटल जनशक्ति पार्टी ने इसकी उच्च स्तरीय जांच के साथ साथ दोषी पुलिस उपनिरीक्षक को निलंबित और इंद्र अग्रवाल के विरुद्ध कार्यवाही करने की मां की, और चेतावनी देते हुए कहा कि अगर शीघ्र दोषी पुलिस उपनिरीक्षक और इंद्र अग्रवाल के खिलाफ कार्यवाही नहीं की गई तो अटल जनशक्ति पार्टी दिल्ली के जंतर मंतर पर धरना देगी और जब तक न्याय नहीं मिलेगा अनशन भी करेगी।